Mar 20, 2013

सताने वाला सपना-हिन्दी शायरी satane wala sapana-hindi shayri or poet

झूठ बोलना नहीं आता,
सच सहन कर सके कोई इंसान
सामने नज़र नहीं आता,
पाखंड पसंद जमाने को
लुभाने के लिये ख्वाब बेचना सरल है
आकाश में उड़ने की चाहत लिये
सभी खड़े हैं बाज़ार में
हकीकत की जमीन पर गिरते
जब मदहोश लोग
दिल बहलाने वाले खिलौने का
सच तभी उनके सामने आता।
कहें दीपक बापू
दिल का सच
अंदर ही सांस लेता रहता है
अपने दर्द का इलाज कर लेते है
हम अपनी सांसों से
सता सके कोई सपना
ऐसा कभी अपनी सोच में नहीं आता।
कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com


कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com
Post a Comment

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर-दीपकबापूवाणी (man ke khet par dhan ka Chakkar-DeepakBapuwani)

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर, वैभव रथ पर सवार देव से लेता टक्कर। ‘दीपकबापू’ आदर्श की बातें करते जरूर, रात के शैतान दिन में बनते फक्कड़।।...