May 11, 2013

वादे की असलियत-हिन्दी कविता (vade ki asaliyat-hindi kavita



जिंदगी में ठंडक देने के उन्होंने इतनी बार तोड़े कि
अब यकीन कर दिल जलाने से
धूप में तपना अच्छा लगता है,
नहीं है आसरा कहीं से
दिल को यह समझा लिया
जिंदा रहने की ख्वाहिश
इतनी दमदार हो गयी
हर हाल खूबसूरत लगता है।
कहें दीपक बापू
वादे कांच के बर्तन जैसे
कभी न कभी टूट जायेगा
कितना भी चमकता झूठ दिखाये
कड़वा सच कहीं ज्यादा अच्छा लगता है।
दीपक राज कुकरेजा भारतदीप

ग्वालियर मध्यप्रदेश
              


कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com


Post a Comment

आओ खूबसूरत चरित्रों की फिक्र करें-दीपकबापूवाणी (Aao Khubsurat charitron ki Fikra kahen-DeepakBapuwani)

जिससे डरे वही तन्हाई साथ चली , प्रेंमरहित मिली दिल की हर गली। ‘ दीपकबापू ’ हम तो चिंगारी लाते रहे अंधेरापसंदों को नह...