Aug 22, 2007

आदमी उमर भर अनजान रहता है

अपने शारीर के हर अंग को
उपयोग प्रतिदिन करते हुए
भी कौन उसका महत्व जान पाता है
जीता है जिस मन के साथ
जीवन भर उसे कौन समझ पाता है

ऑंखें देखने के लिए मिली
पर क्या देखता है उमर भर
केवल अपने दायरे में क़ैद
खुद को ही करते हुए
अपने परिश्रम से एकत्रित वस्तुएं
और उनके रक्षा के लिए कर देता है
बरबाद कर देता है अपनी कीमती दृष्टि
नहीं देख पाता पूरी सृष्टि
कभी मूक जीवों की आँखों को नहीं देखता
इसलिये उमर भर आदमी आंखों की
भाषा को नहीं पढ़ पाता है

नाक से लेता सांस
चीखता-चिल्लाता, डरता और क्रोध में
खर्च कर देता
कभी फूलों के पास जाकर उन्हें सूंघे
कभी पेड के नीचे बैठकर अपनी साँसें ले
पर उमर भर अपने ही घर की चाहरदीवारी में
घुसकर बैठ जाता और
कभी अपने नाक से ली गयी साँसों का
आदमी महत्व नहीं जान पाता है

अपने दोनों हाथों से बटोरता है वह दौलत जो
कभी उसके साथ नहीं जाती
लुटने के भय से हमेशा ताने रहता
कभी नहीं अपने हाथ से दूसरे के
कल्याण के लिए नहीं उठाता
अपने हाथों की अस्तित्व को
उमर भर आदमी नहीं जान पाता है

पूरी जिन्दगी अपनी टांगो पर इधर-उधर
दौड़ता फिरता है
जब तक नहीं थकता
तब तक नहीं करता विश्राम
अपनी टांगों की ताकत से हमेशा
आदमी अपने को अनजान पाता है
सब जगह ढूँढता ख़ुशी पर
अपने मन को हमेशा खाली पाता है
Post a Comment

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर-दीपकबापूवाणी (man ke khet par dhan ka Chakkar-DeepakBapuwani)

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर, वैभव रथ पर सवार देव से लेता टक्कर। ‘दीपकबापू’ आदर्श की बातें करते जरूर, रात के शैतान दिन में बनते फक्कड़।।...