Jun 3, 2014

तरक्की का पैमाना कभी नापा नहीं-तीन हिन्दी क्षणिकायें(tarakki ka paimana kabhi napa nahin-three short hindi poem)



 हर पल हादसों का अंदेशा छाया हर शहर में हैं,
इंसान और सामान के खोने का खतरा दिन के हर पहर में है।
कहें दीपक बापू तरक्की का पैमाना कभी नापा नहीं
ऊंचे खड़े बरगद गिरने के किस्से आंधियों के कहर में हैं।
-------------
दायें चलें कि बायें या रुकें कि दौड़ें समझ में नहीं आता,
सड़क पर चलती बदहवास भीड़ चाहे जो किसी से टकराता।
कहें दीपक बापू एक हाथ गाड़ी पर दूसरे में रहता मोबाईल
लोग आंखें से रिश्ता निभायेंगे या कान से समझ में नहीं आता।
-------
हम सावधानी से चलते हैं क्योंकि घर पर कोई इंतजार करता है,
मगर उसका क्या कहें जो हमारे लिये हादसे तैयार करता है।
कहें दीपक बापू नये सामानों ने इंसान को कर दिया बदहवास
खुद होता है शिकार या दूसरे पर वार करता है।
---------------- 

 कवि एवं लेखक-दीपक राज कुकरेजा 'भारतदीप'

ग्वालियर, मध्य प्रदेश

कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com
Post a Comment

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर-दीपकबापूवाणी (man ke khet par dhan ka Chakkar-DeepakBapuwani)

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर, वैभव रथ पर सवार देव से लेता टक्कर। ‘दीपकबापू’ आदर्श की बातें करते जरूर, रात के शैतान दिन में बनते फक्कड़।।...