Mar 14, 2015

भूख की ताकत-हिन्दी कविता(bhookh ki taqat-hindi poem)


यह भूख की ताकत है
टूटे बर्तन में
सूखी रोटी भी
हजम हो जायेगी।

अभाव से लड़ती देह की
परिश्रम करने में
शरम खो जायेगी।

कहें दीपक बापू हमदर्दी से
चलता है जिनका रोजगार
उनसे आशा करना व्यर्थ है,
पाखंड में ही उनका अर्थ है,
अपने पसीने की
बहती धारा पर यकीन रखना
वही मरहम हो जायेगी।
-------------
 कवि एवं लेखक-दीपक राज कुकरेजा 'भारतदीप'

ग्वालियर, मध्य प्रदेश

कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com
Post a Comment

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर-दीपकबापूवाणी (man ke khet par dhan ka Chakkar-DeepakBapuwani)

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर, वैभव रथ पर सवार देव से लेता टक्कर। ‘दीपकबापू’ आदर्श की बातें करते जरूर, रात के शैतान दिन में बनते फक्कड़।।...