Sep 11, 2014

हिन्दी में गरियाना और लतियाना-14 सितम्बर हिन्दी दिवस पर विशिष्ट कविता(hindi and hinglish-A Hindi special satire poem on hindi day, hindi diwas or hindi) divas)



बड़ी हस्ती है जिनकी
पर्दे पर आते हैं तो
अंग्रेजी में गरियाते हैं।

पीछे जाकर
आ जाते असलियत पर
एक दूसरे को
हिन्दी में लतियाते हैं।

कहें दीपक बापू बुद्धि का रिश्ता
जब बुद्धि से नहीं रखना हो
तब पराई भाषा से
शब्द निकालना आसान है
मगर जब समझाना
मुश्किल हो गरीब को
तब वह हिन्दी में बतियाते हैं।
---------------------------- 

hindi bhasha ka mahatva,rashtrbhasha ka mahatva,essay on hindi diwas,essay on hindi divas,hindi par nibandh,hindi saptah par vishesh lekh,importense of hindi,importense of rashtrabhasha,hindi divas par nibandh,hindi diwas par nibandh,14 september hindi divas,14september hindi diwas १४ सितम्बर हिंदी दिवस का महत्व 


 कवि एवं लेखक-दीपक राज कुकरेजा 'भारतदीप'

ग्वालियर, मध्य प्रदेश

कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com
Post a Comment

आओ खूबसूरत चरित्रों की फिक्र करें-दीपकबापूवाणी (Aao Khubsurat charitron ki Fikra kahen-DeepakBapuwani)

जिससे डरे वही तन्हाई साथ चली , प्रेंमरहित मिली दिल की हर गली। ‘ दीपकबापू ’ हम तो चिंगारी लाते रहे अंधेरापसंदों को नह...