Dec 30, 2014

इंसान की भी नसल होती है-हिन्दी कविता(insan ki bhi nasal hotee hain-hindi poem)



इंसानी समाज में भी

तरह तरह की नसल होती है।



मन सबसे बड़ा खिलाड़ी

हर पल जागते हुए

बोता है विचारों के बीच

उनसे भी अलग अलग

फसल होती है।



कहें दीपक बापू संसार पर

चतुर लोग धर्म की छतरी के नीचे

आम इंसानों की भीड़ लगाकर

उनकी नकली पहचान बनाते रहे,

अच्छे अच्छ शब्द कहकर

सर्वशक्तिमान की तरह

पांव पुजवाते रहे,

फिर भी नहीं रूकते द्वंद्व

आकाश से कोई फरिश्ता

नहीं आता लेकर शांति संदेश

यह धरती ही इंसान का

तय करती जीवन

उसकी रचना ही असल होती है।
---------------------

 कवि एवं लेखक-दीपक राज कुकरेजा 'भारतदीप'

ग्वालियर, मध्य प्रदेश

कवि, लेखक और संपादक-दीपक "भारतदीप",ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak "BharatDeep",Gwalior
http://rajlekh-patrika.blogspot.com
Post a Comment

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर-दीपकबापूवाणी (man ke khet par dhan ka Chakkar-DeepakBapuwani)

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर, वैभव रथ पर सवार देव से लेता टक्कर। ‘दीपकबापू’ आदर्श की बातें करते जरूर, रात के शैतान दिन में बनते फक्कड़।।...