Sep 2, 2016

चमकाचेहरा बिक्री में सहायक-हिन्दी कविता (Good Face Helpful for Add And Sale-Hindi Poem)


सौदागर चाहें
सामान के प्रचार के लिये
विज्ञापन के नायक।

रंगीन पर्दे पर 
चमका चेहरा
बने बिक्री में सहायक।

कहें दीपकबापू महकते हुए
फूलों से सुगंध चुराना कठिन
बाज़ार के सौदागरों ने
सजा लिये नकली गमलों में
खरीद लिये असल बताने वाले
संगीतकार गायक।
-------------------

Post a Comment

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर-दीपकबापूवाणी (man ke khet par dhan ka Chakkar-DeepakBapuwani)

मन के खेल पर भारी धन का चक्कर, वैभव रथ पर सवार देव से लेता टक्कर। ‘दीपकबापू’ आदर्श की बातें करते जरूर, रात के शैतान दिन में बनते फक्कड़।।...